उत्तरप्रदेश

15,000 करोड़ के बाइक बोट घोटाले में केस दर्ज, 15 लोगों ने देश भर से की ठगी

15,000 करोड़ के बाइक बोट घोटाले में केस दर्ज, 15 लोगों ने देश भर से की ठगी

उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) की कंपनी बाइक बोट के 15,000 करोड़ रुपये के घोटाले के मामले (scam case) में सीबीआई ने केस दर्ज कर लिया है. सीबीआई ने इस मामले (scam case) में कंपनी के चीफ मैनेजिंग डायरेक्टर संजय भाटी सहित 14 अन्य लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है. इन लोगों पर देश भर में लाखों लोगों से ठगी (bike boat scam) करने का आरोप है.

कंपनी बाइक बोट के नाम पर लोगों को बाइक टैक्सी में निवेश का ऑफर दिया गया था. जिसके तहत 15,000 करोड़ रुपये की ठगी fraud की गई और फिर यह लोग चंपत हो गए. यह घोटाला हीरा कारोबारी नीरव मोदी और मेहुल चोकसी की ओर से किए गए फ्रॉड fraud से भी बड़ा माना जा रहा है.

जानकारी के अनुसार कंपनी के चीफ मैनेजिंग डायरेक्टर संजय भाटी ने गर्वित इनोवेटिव प्रमोटर्स लिमिटेड के नाम से कंपनी बनाई थी. जिसके बाद बाइक बोट (bike boat) नाम से स्कीम की शुरुआत की गई. संजय भाटी और उसके साथियों ने निवेशकों को 1,3,5 या फिर 7 बाइकों में निवेश के लिए आकर्षक रिटर्न का ऑफर दिया. जिसमें यह कहा गया कि यह बाइक टैक्सी स्कीम (bike taxi scheme) है और इसमें पैसे लगाने पर लोगों को बड़ा रिटर्न मिलेगा. लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ और हजारों करोड़ की ठगी करने के बाद संजय भाटी और उसके साथी चलते बने. सूत्रों के हवाले से कहा जा रहा है कि संजय भाटी फिलहाल देश में ही नहीं है.

Investment के बदले हर महीने रिटर्न का था offer
इस ठगी की स्कीम (bike boat scame) के तहत लोगों को offer दिया गया था कि वे बाइकों को खरीदने के लिए जो निवेश Investment करेंगे, उसके बदले में उन्हें हर महीने अच्छा खासा रिटर्न मिलेगा. इसके अलावा भी अन्य लोगों को जोड़ने पर कुछ अलग इंसेंटिव incentive देने की भी बात कही गई थी. कंपनी ने देश के कई शहरों में अपनी फ्रेंचाइजी शुरू करने की भी बात कही थी. लेकिन यह स्कीम कहीं भी जमीन पर नहीं उतरी और लोगों से फ्रॉड (bike boat scame) जारी रहा. इस स्कीम (bike taxi scheme) को कंपनी ने 2017 में लॉन्च किया था और 2019 के शुरुआती दिनों तक यह घोटाला (bike boat scame) लगातार जारी ही रहा. इस बीच देश भर से लाखों लोगों ने इस कंपनी में करीब 15,000 करोड़ रुपये का Investment कर दिया था.

CBI की एफआईआर में पुलिस पर उठ रहे सवाल
सीबीआई CBI से पहले इस केस (bike boat scame) में ईडी ने जांच शुरू की गई थी. एजेंसी की ओर से कंपनी के प्रमोटरों की 216 करोड़ रुपये की संपत्ति भी जब्त की थी. सीबीआई CBI ने अपनी एफआईआर में लिखा है कि 2 लाख लोगों से ठगी fraud का यह मामला है. इसके तहत कंपनी ने विज्ञापन जारी कर लोगों से स्कीम में Investment की अपील की थी. इसके अलावा सीबीआई CBI ने अपनी एजेंसी में पुलिस की ढिलाई पर भी सवाल उठाया है. जानकारी के मुताबिक एसएसपी और एसपी क्राइम ब्रांच ने लोगों से अपनी शिकायतों को वापस लेने के लिए दबाव भी बनाया था.

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Close