दुनिया

आठवीं फेल छात्र ने खड़ी की करोड़ो की कंपनी., अंबानी है इनके क्लाइंट

आठवीं फेल छात्र ने खड़ी की करोड़ो की कंपनी., अंबानी है इनके क्लाइंट

कॉलेज या स्कूल में जब पढ़ने वाला छात्र फेल हो जाते हैं. तब उनके भविष्य के बारे में माता-पिता चिंता करते हुए उन्हें डांटते, फटकारते व समझाते हैं. सभी माता-पिता अपने बच्चों को यह बात जरूर कहते हैं कि पढ़ोगे तो आगे बढ़ोगे. खेलोगे कूदोगे तो खराब हो जाओगे. इस कथन को मुंबई के एक लड़के ने गलत साबित करके दिखा दिया है. आज ऐसे छात्र के बारे में बात करेंगे जो अपने स्कूल की पढ़ाई के दौरान आठवीं में फेल होने के बावजूद भी आज वह कामयाब शख्स बन गया है.

दरअसल आपको बताना चाहेंगे कि त्रिशानीत अरोड़ा नाम का एक लड़का है जिसका पढ़ाई में बिल्कुल भी मन नहीं लगा करता था. त्रिशानीत के घरवाले उसके लिए काफी चिंतित रहा करते थे. लेकिन उसने छोटी सी उम्र में कुछ ऐसा कर दिखाया जो उस उम्र के बच्चे के लिए करना बहुत मुश्किल है.

बन चुके हैं साइबर सिक्योरिटी एक्सपर्ट
आपको बता दें कि त्रिशानित साइबर सिक्योरिटी में काफी एक्सपर्ट बन चुके हैं. त्रिशानित बचपन से ही कंप्यूटर का काफी शौक था. वह अक्सर अपने कंप्यूटर पर वीडियो गेम वगैरह खेला करते थे. लेकिन उनके पिता इस बात से काफी चिंतित रहते थे कि वह सारे दिन कंप्यूटर पर गेम खेलते हैं. जिसकी वजह से त्रिशानित के पिता कंप्यूटर में पासवर्ड लगा दिया करते थे. लेकिन त्रिशानीत कंप्यूटर में इतने एक्सपर्ट है कि वह कंप्यूटर का पासवर्ड हैक करके गेम खेलने लग जाते थे. यह सब देख कर उनके पिता को उनसे काफी प्रभावित हुए और उन्हें एक नया कंप्यूटर ला कर दिया.

कैसे त्रिशनित अरोड़ा बना करोड़पति
त्रिशनित की सफलता इस बात का सबूत है कि उन्होंने अपनी मेहनत से एक कंपनी खड़ी कर ली है. जिसमें मुकेश अंबानी सहित कई छोटी बड़ी नामी कंपनियां उनकी क्लाइंट बनी और वे करोड़पति बन गए. त्रिशनित अरोड़ा ने एक एथिकल हैकर के रूप में अपनी पहचान बनाई है और उसने नार्थ इंडिया की पहली साइबर एमरजेंसी रिस्पोंस टीम सेटअप की है.

आठवीं कक्षा में हो गए थे फेल
बता दे कि त्रिशानित आठवीं कक्षा में फेल हुए थे. जिसके बाद उनके माता-पिता ने त्रिशानित को बुलाया और उससे कंप्यूटर के बारे में पूछा कि तुम कंप्यूटर केयर में कुछ करना चाहोगे. तो वह अपनी पढ़ाई छोड़कर कंप्यूटर शिक्षा लेने के लिए जुट गया. महज 19 साल की उम्र में त्रिशानित ने कंप्यूटर फिक्सिंग और सॉफ्टवेयर क्लीनिंग करना सीख लिया था. जिसके बाद वह छोटे-छोटे प्रोजेक्ट पर काम करने लगा.

बड़ी-बड़ी कंपनियों के लिए कर रहा काम
त्रिशानित कंप्यूटर में इतना एक्सपर्ट हो चुका था कि वह लोगों के कंप्यूटर से जुड़े छोटे-छोटे काम करने लग गया और इसी के चलते उसे छोटे-छोटे प्रोजेक्ट भी मिलने शुरु हो गए. लेकिन शायद उनको काफी बड़ा बनना था, इसलिए वह लगातार मेहनत करता रहा और कंप्यूटर के बारे में और भी ज्यादा सीखता रहा. आज वह 23 साल का हो चुका है और भारत की बड़ी बड़ी कंपनी जैसे रिलायंस, एसबीआई बैंक, एवन साइकिल आदि उनकी क्लाइंट है. वर्तमान समय में उनके भारत में 4 ऑफिस हो चुके हैं. और उन्होंने हाल ही में एक ऑफिस दुबई में भी खोला है. वह लगातार प्रगति कर रहा हैं. ऐसा प्रतित होता है कि कुछ ही समय में वह दुनिया में अपना नाम बना लेगा.

फेल होने पर भी नहीं छोड़ा कंप्यूटर का शौक
त्रिशानित जब अपने स्कूल की पढ़ाई के दौरान आठवीं में फेल हो गया. तब उसके आस पड़ोस, दोस्त सभी चिढ़ाने लगे थे. लेकिन उसके माता-पिता ने उसे डांटने फटकारने की बजाय उससे इस बात का कारण पूछा कि वह फेल क्यों हो गए, तब उसने अपनी बात को खुलकर बताया कि उसे इतिहास और भूगोल जैसे कठिन विषय को समझने में बड़ी कठिनाई महसूस होती है. यह भी बताया कि उसकी रुचि कंप्यूटर में है, तब उनके माता-पिता ने उसका स्कूल छुड़वा दिया और इंटरमीडिएट तक की पढ़ाई डिस्टेंस एजुकेशन के माध्यम से करवाई और स्कूलिंग की पढ़ाई पूरी करने के बाद उसने अपना ग्रेजुएशन बीसीए में पूरा किया.

हैकिंग का था शौक
त्रिशनित का रुझान शुरू से ही हैकिंग में था. इसके लिए वह हमेशा नई जानकारिया इकठ्ठा करते रहते थे. सेल्‍फ स्‍टडी के द्वारा, पिता के कंप्यूटर में एक्‍पीरिमेंट करके देखना और यूट्यूब पर वीडियो देखकर खुद भी प्रयोग करना एक लाभकारी कदम साबित हुआ. त्रिशनित ने बताया कि 19 वर्ष की उम्र में ही सॉफ्टवेयर क्लीनर और कंप्यूटर फिक्सर के रूप में काम करने लगे थे. उस दौरान उन्हें अपना पहला चेक 60,000 रुपये का मिला.

21 साल में खड़ी की कंपनी
त्रिशनित जब 21 साल के हुए तो उन्होंने टीएसी सिक्युरिटी (TAC Security) नाम की साइबर सिक्युरिटी कंपनी की नींव रखी. वे बताते हैं कि उनकी कंपनी का हेड ऑफिस लुधियाना में है. इसके अलावा उनकी कंपनी की कुछ शाखाएं (वर्चुअल ऑफिस) दुबई, UK और कई अन्य जगहों में भी हैं. उन्होंने बताया कि उनकी कंपनी के 40 फीसदी क्लाइंट UK और दुबई जैसी जगहों में से आते हैं. पूरी दुनिया से 50 फॉर्च्यून और 500 कंपनियां क्लाइंट हैं.

रिलायंस इंडस्ट्रीज से लेकर सीबीआई भी है त्रिशनित की क्लाइंट
त्रिशनित के अनुसार उनकी कंपनी एक साइबर सिक्योरिटी कंपनी है. जो कंपनी के डाटा को हैक व चोरी करने से रोकती है. बताया जा रहा है कि उनकी कंपनी के क्लाइंट की सूची में मुकेश अंबानी की रिलायंस इंडस्ट्रीज के साथ-साथ पंजाब पुलिस, गुजरात पुलिस, क्राइम ब्रांच (CBI) आदि भी शामिल हैं.

जल्द ही 2,000 करोड़ का टर्नओवर
त्रिशनित अब जल्द ही यूएस में अपने बिजनिस को बढ़ाने की कोशिश कर रहे है। वहाँ के करोड़पतियों के साथ बिजनिस स्पेंड करने की योजनाओ पर कार्य कर रहे है.‘हैकिंग टॉक विद त्रिशनित अरोड़ा‘, ‘हैकिंग विद स्‍मार्ट फोन्‍स‘ और ‘द हैकिंग एरा‘ नाम से किताबें भी लिखी हैं.

कंपनियों की वेबसाइट को साइबर अटैक से बचाते है त्रिशनित
त्रिशनित अरोड़ा बताते है कि वे अपने क्लाइंट्स की वेबसाईट को होने वाले साइबर चोरी से बचाने, उनकी साइट को सुरक्षित रखने का काम करते है. त्रिशनित कहते है की यदि साइबर अटैक होता है. तो उनकी कंपनी के सामने एक बहुत बड़ा बाजार है. जहाँ अन्य कंपनी अपने वेबसाइट के डेटा को सुरक्षित रखने के लिए उनसे जुड़ती है. वहीं से हमारा काम उनको सिक्योर करने का होता है.

उनकी कंपनी कर रही 150 करोड़ का टर्नओवर
वर्तमान में त्रिशनित की कंपनी करोडो रुपए का टर्नओवर कर रही है. जानकारी के अनुसार त्रिशनित ने अपनी कंपनी का विस्तार करने के लिए यूएस में एक ऑफिस स्टार्ट करने के लिए जी तोड़ प्रयत्न किया है. जिसके लिए वह निवेशकों से भी बात कर रहे हैं। जल्द ही उनकी एक नई ब्रांच अमेरिका में भी होगी.

Tags

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Close