बूढी माँ को घर से निकालने व ख्याल न रखने के कारण बेटे पर दर्ज हुई एफआईआर

Bhaskar News Agency

Oct. 07, 2019

हरदोई(लक्ष्मी कान्त पाठक) अपने पेट मे 9माह पालकर एक बेटे को जन्म देने वाली जननी को जब बेटे बहू उसको बुढापे मे वेसहारा छोड देते है तो माँ का कलेजा फट जाता है। अपनै को गीले मे रख बेटे को सूखे मे सुलाने वाली अपने आंचल का दूध पिलाने वाली ममतामयी माता जब बेटोंं को भार लगने लगती है तो मां को अपनी प्रसव पीडा याद आ जाती है।

 

  • पाली थानाध्यक्ष वीरेन्द्र तोमर की मदद के बाद असहाय बूढी महिला की मदद के लिये उठे सैकडो हाथ

 

फिर भी माँ अपने बेटे से दुलार कम नही करती फिर भी अपनी जवानी के जोश मे मदमस्त लडके अपनी मां पर जुल्म ही नही ढाते बल्कि घर से निकालने मे भी नही हिचकते। ऐसा ही एक मामला पाली थाना क्षेत्र के गांव खेमपुर मे प्रकाश मे आया। यहां रहने वाले रतीपाल पुत्र झब्बू ने सारी मर्यादाओं को तोडते हुये अपनी विधवा माँ मोहनी अपने विक्षिप्त भाई गट्टू को घर से निकाल दिया। किसी तरह बूढी माता झोपडी डालकर अपने विक्षिप्त बेटे के साथ गांव मे ही झोपडी डालकर गुजर बसर कर रही है। कल थानाध्यक्ष पाली वीरेंद्र तोमर को जब इस गरीब महिला की दीन दशा का पता चला तो उन्होंने मौके पर पहुंच कर गरीब महिला की आर्थिक मद्द के साथ राशन व कपडे उपलब्ध कराकर सहयोग किया।इस नेक कार्य की खबर जैसे ही समाज मे गयी सैकडो लोग मदद को खडे हो गये। आज पुलिस के साथ समाजसेवियो ने उक्त असहाय विधवा एवं बृद्ध महिला को 51,000/- रुपये की धनराशि प्रदान की गई। इधर
थानाध्यक्ष पाली ने उक्त असहाय बूढी महिला को घर से निकालने व उसका ध्यान न देने के संबंध में उसके लड़के रतिपाल के विरुद्ध मु0अ0सं0 427/19 धारा 491 ipc व सीनियर सिटीजन वेलफेयर अधिनियम 2007 की धारा 24 के अंतर्गत अभियोग पंजीकरण किया गया।